तूने पहचाना नहीं

वीणा गुप्त

मत खोल अपने घाव ,नादान यहां पर,

मरहम न लगाए कोई,न मिलेगा सुकून।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


आस मत कर यहां, किसी रहनुमा की,

अरसा हुआ गुजरे,मोहब्ब्त के जमाने को।

हैवान बेख़ौफ घूमे यहां,बरपा कहर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


पैरों के छाले अपने, खुद ही सहला ले।

रास्ते पथरीले हैं, कांटे भी बहुत हैं।

रात घनी अंधेरी,डरी-सहमी सहर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


रुक गया है पानी, बू नफ़रत की आग रही।

हिंसा और खून की, फसलें उगा रही।

कर ले किनारा इससे, ये कैसी नहर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


लफ्ज़ सुन प्यार के ,गाफिल नहीं होना।

नादां है दिल माना,पर तू होश मत खोना।

रेशम में लिपटी छुरी का,मीठा ये ज़हर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


ईमान,अदब से गिरी,लानतें भरी,

गुनगुना रहा है जिसे, ज़माना बेहया,

खिजां को बुलाती,यह कैसी बहर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


लगा ऐसा कि खो गए,अब सारे रास्ते,

हारा-थका बैठा तू,मगर किस वास्ते?

डगर नई बना ले,तुझ पर ख़ुदा की मेहर है।

तूने पहचाना नहीं, ये नमक का शहर है।


वीणा गुप्त

नई दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image