आँसू

       


कमलेश मुद्ग्ल                                                                      आँखों से बरस जाते हैं  ये आँसू                                              रोकना चाहूँ तो नही रुकते                                                    बरसात की तरह                                                               बरस जाते हैं ये आँसू                                                       पलकों के पीछे छु पे                                                          ह्रदय से उतर जाते हैं ये आँसू                                             गम में भी साथ निभाते                                                     खुशी में बरबस बरस जाते हैं ये आँसू                                   जो भी छुपाना चाहूँ                                                        जाने ये क्यों आँखों के को रो से                                            निकल चुगली कर जाते हैं ये आँसू                                       है क्या इनकी कोई भाषा                                                   बिन बोले बहुत कुछ कह जाते                                              जब निकल जाते आँखों से आँसू                                         

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image