एहसास


मुकेश गौतम

सदा किसी का आभास सा रहता है,

कोई दूर होकर भी पास सा रहता है।

मौजूदगी है उसकी हमेशा हीं मुझमें,

ये मैं नहीं मेरा ही एहसास कहता है।।


रूबरू होता हूँ उसके हर एक पल में,

साथ हूँ उसके हर आज और कल में।

हर बात बताना फितरत में है उसके,

हिस्सा हूँ उसकी समस्या के हल में।।


कोई रिश्ता रहा होगा शायद हमारा,

बनें होंगे कभी एक दूजे का सहारा।

कुछ तो वज़ह है मन की क़रीबी में,

वरना कब का ही हो जाता किनारा।।


हर पल निर्मल धारा बनकर बही हैं ,

पूजा बनके मेरे मन-मंदिर में रही हैं।

बाँट लेती थी मेरे गम को वो हमेशा,

मेरी पीड़ा खुद की मानकर सही हैं।।


हर पल-पल का अपडेट अभी भी है,

मुझसे दिन की शुरुआत अभी भी है।

जब भी बंद करें हम आखँ रोज ही,

तो होती जय जय राम अभी भी है।।

=======================

                         रचनाकार

                      -मुकेश गौतम 

                  ग्राम डपटा बूंदी (राज)

                       20:05:2021

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image