एहसास


मुकेश गौतम

सदा किसी का आभास सा रहता है,

कोई दूर होकर भी पास सा रहता है।

मौजूदगी है उसकी हमेशा हीं मुझमें,

ये मैं नहीं मेरा ही एहसास कहता है।।


रूबरू होता हूँ उसके हर एक पल में,

साथ हूँ उसके हर आज और कल में।

हर बात बताना फितरत में है उसके,

हिस्सा हूँ उसकी समस्या के हल में।।


कोई रिश्ता रहा होगा शायद हमारा,

बनें होंगे कभी एक दूजे का सहारा।

कुछ तो वज़ह है मन की क़रीबी में,

वरना कब का ही हो जाता किनारा।।


हर पल निर्मल धारा बनकर बही हैं ,

पूजा बनके मेरे मन-मंदिर में रही हैं।

बाँट लेती थी मेरे गम को वो हमेशा,

मेरी पीड़ा खुद की मानकर सही हैं।।


हर पल-पल का अपडेट अभी भी है,

मुझसे दिन की शुरुआत अभी भी है।

जब भी बंद करें हम आखँ रोज ही,

तो होती जय जय राम अभी भी है।।

=======================

                         रचनाकार

                      -मुकेश गौतम 

                  ग्राम डपटा बूंदी (राज)

                       20:05:2021

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image