"धरती इसीलिए माँ कहलाती है "


हरी-हरी वह घास उगाती है 

फसलों को लहलहाती है 

फूलों में भरती रंग 

पेड़ों को पाल-पोस कर ऊँचा करती 

पत्ते-पत्ते में रहे ज़िंदा हरापन 

अपनी देह को खाद बनाती है 

धरती इसीलिए माँ कहलाती है 

पानी से तर है सब 

नदियां पोखर झरने और समंदर 

सोते धरती के अंदर 

जैसे सूरज तपता आसमान में 

धरती के भीतर भी दहकता है 

गोद में लेकिन सबको साथ सुलाती है 

धरती इसीलिए माँ कहलाती है 

आग पानी को सिखाती साथ रहना 

हर बीज सीखता इस तरह उगना 

एक हाथ फसलें उगाकर 

सबको खिलाती है  ।।


डाॅ. अनीता शाही सिंह 


प्रयागराज 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image