लहर

    

  डॉ मधुबाला सिन्हा      

"पुरूआ दीठ गडवले बा

मन के आस पिअरवले बा

गवे गवे मन धीर धराइल

दूर गगन ललचवले बा


मनवा अब भयाईल बा

ई समय के सब फेरा बा

धीर धर मन सब सम्भरी

मन ई आस लगवले बा


अब हीं त अधरतिया बा

सुकवा त ललचवले बा

रात के पाछा दिनों लउकी

तनी बिलम मन कहले बा


एक लहर दोसर लहर बीतल बा

अब त तिसरका गोड़ बढवले बा

चले चले के दुनिया से कहलख

पर,संस्कार ना आपन छोडके बा


करीं उतजोग जग जीते के बा

अपना के त अब चीन्हे के बा

मास्क लगाईं आ दूरीयो बढ़ाई

हथवा त बेरे बेर धोअहूँ के बा....

    ★★★★★★★

डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण

14 मई 2021

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image