ग़ज़ल



सुषमा दीक्षित शुक्ला

ऐ!जिंदगी तेरे लिए मैंने बहुत से दुःख सिंये।

ऐ! वन्दगी  तेरे लिए आँख ने आँसू  पिये  ।


बे मुरब्बत जिंदगी तू रूठती मुझसे रही ।

बेरहम ये जख़्म सारे दिन ब दिन तूने दिये ।


ऐ मोहब्बत बन चुकी तू अब  मेरी दीवनगी।

इश्क़ की करके इबादत काम पूरे हैं  किये ।


दिल तड़पता रात दिन रूह है जोगन बनी ।

दर्द सारे आदतों में अब सनम शामिल किये ।


मोहब्बत में नही है फ़र्क जीने और मरने का ।

बेखता ये सज़ा पाकर जिंदगी तुझको जिये ।


हजारों ख्वाहिशें हो चुकीं हैं अब तो  दफ़न ।

याद में तेरी सनम  जहरे  समंदर पी  लिए ।


शमा बनकर अब तलक मैं,पिघल ढलती रही ।

फ़क़त रात ओ दिन जले प्यार से दिल के दिये ।

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image