डॉक्टर

 


अर्पणा दुबे

हे डॉक्टर साहब तुम हो

 भगवान का दूसरा रूप हो

करते दिन रात सबकी सेवा

दूसरा जन्म लोगों को देते हो


कोई गुस्से में भी बात करे

हंंस कर सबकी बात सुन लेते हो

रहेंगे हम सदा आपकी ऋणि

सबको नए नए रोगो से मुक्त करते हो । 


जान को जोखिम में लेकर

इस देश की सेबा करते हो 

घर परिवार सब माँ के सहारे छोड़

मरीजों की सेवा में लगे रहते हो।।।


करती हूँ शत शत प्रणाम आपको

जीतना भी कहुँ बहुत कम है।

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

अर्पणा दुबे

 अनूपपुर मध्यप्रदेश।

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image