मेरे दोस्त ..

 


मनीषा कुमारी 

कभी अपनी भी गलतियां को मान लेना होता हैं ,

कभी अपनी भी आदतों को सुधार लेना होता हैं ,



कभी मैं झुक जाऊं कभी तू झुक जाना मेरे दोस्त,

एक दूसरे को प्यार से हमेशा मना लेना मेरे दोस्त,


रूठ भी जाऊँ तो तुम कभी मत रूठना मेरे दोस्त ,

तुझे वक्त न दे पाये तो फिर भी क्षमा कर देना दोस्त ,

तुम ही हो जो मेरी सुख-दुख को समझ सकते हो ,

एक तुम ही हो जो हर दुख-दर्द पे मलहम लगाते हो ,


ये दोस्ती हर मोड़ पे न जाने क्यों इतनी इम्तिहान लेती हैं ,

तुझे भी पता है उसके बिना मेरा जीना मुमकिन नहीं है ,

फिर भी तू क्यों हमे उससे दूर रहने को मजबुर करती हैं ,

अब बस भी कर न क्यों बार-बार मुझे कमजोर करती हैं ,


मनीषा कुमारी 

मुंबई

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image