गीत





जिंदगी की कहानी को दिया जिसने उजाला है 

हाल उसकी सुनाऊँ क्या, रौंद उसने डाला है 

सुना है जो बड़े हैं नफरत नहीं करते 

जख्म नहीं देते, वो जख्म नहीं करते 

देखा है पाया मैंने दिल उनका काला है, 

हाल.....। 


रहमान नहीं होता तो लोग रौंदे होते 

आबरू नहीं छोड़ते, आबरू रौंदे होते 

मेहनत जो करते हैं, खाली उनका गल्ला है, 

हाल .... ।


गगन से चली रौशनी, झोपड़ी में संवर गई 

आँगन की जमीं अपनी आँगन में बिखर गई 

जिंदगी की कहानी को दिया जिसने उजाला है, 

हाल.... ।


विद्या शंकर विद्यार्थी 


Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image