एहसास

 

 मधु अरोड़ा

जिम्मेदारी के एहसास तले ,

आ चल थोड़ा सा प्यार करें।

 तू बन जा राधा मेरी ,

 मैं बन जाऊं मोहन तेरा ।

 

मीठी मीठी बतिया हो,

 प्यार भरी फिर रतिया हो।

  तेरे प्यार पर बस हक हो मेरा,

   तू मेरी चांदनी बन जा ,

   मैं बन जाऊं चांद तेरा ।

   जिम्मेदारी के एहसास तले ,

   चल कहीं प्यार करें।

    चलकहीं प्यार करें।

     तू जल की निर्मल धारा बन जा ,

     मैं सागर बन जाऊं तेरा ।

     बस प्यार ही प्यार करें ,

     जिम्मेदारी के एहसास तले,

      थोड़ा सा खुद के लिए जी ले ,

      उन्मुक्त पवन के झोंके सा,

       बस प्यार करें बस प्यार करें।।

                   दिल की कलम से

             

                  

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image