नाम से मिटटी तक का सफर


आकांक्षा सिंह

नाम से मिटटी तक का सफर ऐसा होता है आज पहली बार जाना 


सबकी जिम्मेदारी संभालता हुआ वो आदमी खुद के शरीर की जिम्मेदारी चार कंधो पे दे गया 


सबको ठाठ में रखता वो आदमी टाट पे लेटे चला गया 


बिगहो का मालिक आज जमीं पे रखे बांस के चंद टुकड़े पे लेट के चला गया 


परिवार को धागे में पिरोता आदमी ,बांध(कुस की रस्सी ) से बंध के चला गया 


फूलो की छाँव देता वो आदमी खुद के ऊपर, फूल की छाव लिए चला गया 


निर्मम सा ये दृश्य देख के रोंगटे खड़े हो गये  जब घर का मुखिया यु सफ़ेद  कपडे में लिपट के चला गया

           - आकांक्षा सिंह |

              वाराणसी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image