नाम से मिटटी तक का सफर


आकांक्षा सिंह

नाम से मिटटी तक का सफर ऐसा होता है आज पहली बार जाना 


सबकी जिम्मेदारी संभालता हुआ वो आदमी खुद के शरीर की जिम्मेदारी चार कंधो पे दे गया 


सबको ठाठ में रखता वो आदमी टाट पे लेटे चला गया 


बिगहो का मालिक आज जमीं पे रखे बांस के चंद टुकड़े पे लेट के चला गया 


परिवार को धागे में पिरोता आदमी ,बांध(कुस की रस्सी ) से बंध के चला गया 


फूलो की छाँव देता वो आदमी खुद के ऊपर, फूल की छाव लिए चला गया 


निर्मम सा ये दृश्य देख के रोंगटे खड़े हो गये  जब घर का मुखिया यु सफ़ेद  कपडे में लिपट के चला गया

           - आकांक्षा सिंह |

              वाराणसी

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image