प्रेम

सुनीता जौहरी

अंखियों में कान्हा बसें

दूजा न कोई समाए

धागा हो तो टूट भी जाए

पर प्रीत न तोड़ी जाए ।


राधा कहे सखियन से

मैं कृष्ण में, कृष्ण मुझमें समाएं

नहीं राधा कृष्ण के बिना

कृष्ण नहीं राधा बिना ।


बस प्रेम है कान्हामय

और रहा राधामय

राधे कृष्ण गाएं प्रेमगीत

है यही मधुर मधुर प्रेम रीत ।।

_____________________

सुनीता जौहरी

वाराणसी उत्तर प्रदेश

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image