पिता

आराधना प्रियदर्शनी 

जिसने हमको संसार दिया,

आनंद ख़ुशी और प्यार दिया,

ना तुल्य है सोने चांदी से,

प्रेम जो अपरम्पार दिया l


 कोई नहीं उनके समान,

 देंगे उनको शोहरत सम्मान,

 भू पर देव का रूप है,

  हाँ हाँ हैं वह मेरे भगवान् l


कोई पूजा नहीं उनकी सेवा से बढ़कर,

हर सुख दिया हमें खुद कष्ट सहकर,

हर तरह से हमें परिपूर्ण किया है,

और कहूं मैं क्या इतना कहकर l


कभी कमी नहीं की प्यार में,

 स्वर्ग मिला संसार में,

अगर ईश्वर का वरदान न मिलता,

हम रह जाते मझधार में l


हम जीवन में सफल न होते,

न देख सलोने स्वप्न में खोते,

रहता ये संसार अधूरा सा,

कभी ना होता स्वप्न भी पूरा।


 राहों में हम भटके होते,

अगर हमारे पिता ना होते।


●आराधना प्रियदर्शनी 

        बेंगलुरु           


Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image