चुपके से



डॉ मंजु सैनी

आज रात चुपके से

   सपने में तुम

      एक कहानी सी

          बन चले आये थे।

 नींद में ही धीरे से

    कुछ सुना सा गए थे

       तुम तो नहीं आते कभी

          तुम्हारी यादें ही सिर्फ।                        

दिल बहला जाती हैं

   खामोशी से भी

       जब  तुम आओ तो

            मुझे आहटें आती है।         

तुम्हारे सांसो से भी

  दिल समझता हैं मेरा

     एक आहट को तेरी

          यादों में बसी हैं मेरी।                     

साथ की यादे बसी

    एक दास्ताँ सुना जाती हैं

         धीरे से मेरे कान में

            कहानी सी कह जाती हैं।

                                      ….. चुपके से….

डॉ मंजु सैनी

गाजियाबाद

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image