हाँ मैंने देखा है

 

श्वेता शर्मा

हाँ मैंने देखा है 

रेत का बना एक घरौंदा 

जो एक हवा के ढह जाता है

और अस्तित्व मिटा जाता है


पानी का रेला 

फिर वहाँ कुछ भी नही बचता

रेत और पानी के सिवा


हाँ मैंने देखा है 

लोगो को हथेली पर नाम 

लिखते और मिटाते हुये

जिन्हें वो चाहते हैं उन्हीं से

उसे छिपाते हुए


हाँ मैंने देखा है

लोगों को मयत पर 

ले जाते हुए

रोते बिलखते और चिल्लाते हुए

मगर न जाने कब उठेगा

जनाजा मेरा तमन्ना है

कि लोग रोये कभी मेरे लिए भी


हाँ मैंने देखा है

सब कुछ मैंने देखा है ।



Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image