सवाल करो , सवाल करो


कमल राठौर साहिल 

सवाल करो , सवाल करो

अपने हक में , सवाल करो

मजलूमो की पहचान बनो

हक के लिए सवाल करो


उठो , गिरो , लड़खड़ाओ

अपने हक पर ना तरस खाओ

विपरीत हो चाहे वक्त

फिर भी तुम सवाल करो।


कोई कितने भी सिल दे होंठ 

जुबान को लहूलुहान करो

रात के सन्नाटे को तोड़कर

सुबह का तुम आगाज करो


सवाल करो , सवाल करो

अपने हक में सवाल करो


ये मुफलिसी की बेड़ियां कब टूटेगी

मुरझाए चेहरों पर हंसी कब छूटेगी

खामोश बेटे हुकुमरानो से

बेखौफ हो सवाल करो


कमल राठौर साहिल 

शिवपुर मध्य प्रदेश

9685907895

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image