कर्म पथ

शरद कुमार पाठक

सहारे भाग्य के जो बैठ गये

वो जीवन पर्यन्त रोते गये

खुद कर्म पथ पर चले नहीं

बे नाहक भाग्य को दोष देते रह गये


कभी देखते थे जो स्वप्न स्वर्णिम

वो आज अधूरे रहगये


कर्म अनुयायी जो बने

वो सदा बढ़ते गए


सहारे भाग्य के जो बैठ गये

वो जीवन पर्यन्त रोते रहगये


कौन कहता भाग्य बाँझी

जब कर्म पथ पर चले नहीं


सागर किनारे खड़े जो होगये

आज वो गहराई मापते रहगये


जो जले थे कभी बुरादे की तरह

जब आग की की लव से दिगे ही नहीं


 वो आज धुंन्ध की तरह

सुलगते रहगये


सहारे भाग्य के जो बैठ गये

वो जीवन पर्यन्त रोते रहगये


        (शरद कुमार पाठक)

डिस्टिक _____(हरदोई)


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image