तो मां कहेना तुम !

प्रतिभा दुबे 

गिरकर फिर उठना सिखाए 

हर परिस्थिति में संभलना,

जो तुम्हारी हिम्मत बढ़ाए ,


आत्मविशास भी जगाए 

तो मां कहना तुम।।


कितने ही घने अधेरे हो ,

लाख तुम पर पड़े पहरे हो,

विपरीत परिस्थिति में तुम्हारे लिए,

जो आशाओं के दीप जलाएं !

तो मां कहना तुम।।


संकट की घड़ी में तुम

याद करते हो ईश्वर को,

आंख बंद करके देखना,

जो नाम होटो पर आएं!

तो मां कहना तुम।।


थक हार के जब कभी बैठ जाओगे

ममता का आंचल थामने को जब

झटपटाओगे,बन के ठंडी दुआओं सी 

जो स्वर्ग से भी उतार आएं !

तो मां कहना तुम।।


प्रतिभा दुबे ( स्वतंत्र लेखिका)

ग्वालियर मध्य प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image