तू कर्म कर

कमल राठौर साहिल 

यह धरा बन गई रणभूमि

प्रतिदिन घटता युद्ध यहां 

कभी धर्म युद्ध 

कभी कर्म युद्ध 

कभी शर्म युद्ध

इस युद्ध में शंख की हुंकार कर। 


तू बन अर्जुन इस रण में

गांडीव उठा प्रहार कर।


हाथ की लकीरों को भूल जा

कर्मों का तू श्रृंगार कर

यह रण है कर्मों का लेखा जोखा

कर्म युद्ध के रण में 

 तू कर्म कर , तू कर्म कर


धर्म पर जब बात आए

तू अभिमन्यु सा शोर्य दिखा

चक्रव्यू है ये अपनों का

कलयुग में तू तोड़ दिखा


डूब मर , शर्म युद्ध ना कर

अपने आपको तू ना लज्जित कर

यह रणभूमि है वीरों की

तू कर्म कर , तू कर्म कर, 


कमल राठौर साहिल 

श्योपुर मध्य प्रदेश

9685907895

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image