मेरी कनपटी पर वो सफ़ेद बाल


निवेदिता रॉय

रोज़ चलता है ये सिलसिला,

आईना और मेरे बीच शिकवा गिला,

एक दिन दिखाई दिया कनपटी पर एक 

सफ़ेद बाल ,

तो हुई मैं भी ज़रा बेहाल !!!!!!!

सोचा रंग डालूँ या छिपा लूँ ,

थोड़ा पीछे जाऊँ ,और 

बीती ज़िंदगी फिर जी आऊँ 


आईना बोला :

“माफ़ करना मेरी हिमाक़त,

कह दूँ ग़र दें आप इजाज़त,

इस बाल से नहीं होता उम्र का तक़ाज़ा,

ये तो सबूत है कि लिया है आपने ज़िंदगी का भरपूर जायज़ा, “

अभी तो आगे बहुत सी जंग बाक़ी हैं, 

भरनी है वो डायरी जो अभी थोड़ी सी ख़ाली है!

निवेदिता रॉय

 (बहरीन)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image