कवि डा.लवेश राठौर की रचनाएं

 



ये प्यार इक अहसास है


है दूर फिर भी पास है ।।१


इक बुलबुला है जिंदगी

कब छूट जाये सांस है ।।२


वो बूंद देकर जा रहे

रखते जो सागर पास है।।३


जो आग है सबके लिए

हमको उसी की प्यास है।।४


कायम है जलवा आज भी

आशिक तुम्हारा दास है।।५



आग मे हाथ डालना सीखा


शेर आँगन में बाँधना सीखा।।१


जोश ठंडा कभी नहीं होगा

खून हमने उबालना सीखा।।२


प्यार के हम बडे़ हैं बाजीगर

जीत के तुम से हारना सीखा।।३


थक गये जब सभी तरीकों से

फिर अदाओं से मारना सीखा।।४


हम उसी डाल के परिंदे हैंडसेट

बैठ उसको ही काटना सीखा।।५


डा.लवेश राठौर

खरगोन

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image