हौसला

 


मृदुला कुशवाहा 

तुम मुझे तोड़ोगे, 

मैं टूटकर भी सम्भल जाऊँगी।

तुम मुझे जितना रूलाओगे, 

मैं रोकर भी मुस्कुराऊंगी।

तुम मेरे पंख काट दोगे, 

तो भी मैं हौसलों से उडा़न भर लूंगी।

नारी हूँ, बार बार अहसास ना कराओ, 

इस बात का,

पूरा जमाना साथ छोड़ दे, 

फिर भी अकेले चल के दिखाऊंगी।

राह कठिन है, तो क्या हुआ,

राह में कंकड़ मिलेंगे भी तो क्या हुआ,

उन्हें चुन चुनकर राह से हटाऊंगी,

पुष्पों से पूरे पथ को सजाकर,

श्वेत रोशनी से उसे धवल कर,

अपना मार्ग बनाऊंगी,

सौ बार तोड़ोगे मुझे,

हर बार मैं टूट टूटकर भी सम्भल जाऊँगी!!

अपना राह बनाऊंगी..अपना जीवन सजाऊंगी!!


 मृदुला कुशवाहा 

गोरखपुर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image