चहार दीवारयॉं ...

 

राकेश चन्द्रा

काश ! तुम समझ पाते

कि अपने पड़ोसी की बौनी

छाया से बचने के लिये

ऊॅंची दीवारें जरूरी नहीं कि तुम्हारे

मुस्कुराते मुखौटे के पीछे

का खालीपन-हमें अपनी हीनता

का अहसास करा देने के लिये

काफी है.


ये चिकनी-चुपड़ी दीवारें

मेरे टूटे-फूटे आंगन का मजाक तो

उड़ाती रहीं- पर खुरदुरे यथार्थ पर

खड़ा मैं.


दुःख की अनुभूति से परे था]

और मेरी आत्मा

चहार-दीवारियों में बन्दिनी

न होकर आज भी है उन्मुक्त

अपने गंतव्य की आकांक्षा में

प्रतीक्षारत्.     


राकेश चन्द्रा

610/60, केशव नगर कालोनी, 

सीतापुर रोड, लखनऊ

 उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 9457353346

rakeshchandra.81@gmail.com

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image