तुम्हारा साथ चाहिए

  

अनीता मिश्रा "सिद्धि"

हर रूप में हर पल 

हमारे साथ रहते हो 

जीवन के अनुभव 

 पिता बनकर ही कहते हो

मुसीबत के दिनों में 

साथ बनकर भाई रहते हो


ज्ञान और अध्ययन जब चाहा 

तुम मिले गुरु के रूप में

जब आई मुसीबत तब-तब

आये याद मित्र बने

दी है छाया रहकर धूप में


 यौवन के दहलीज पर

साथी के रूप में तुमने

नये सपने संजोय प्रेम के

प्रेमी के रूप में पाया हमने


अनमोल धारा से सिचिंत

हुई मिलन के संयोग

से उतपन्न वात्सल्य मिला

पाया तुम्हें गोद में 

बेटे के रूप में 


हे ! नर हर रूप में हर पल

तुम्हारा साथ चाहिए ,।


अनीता मिश्रा "सिद्धि"

पटना कालिकेत नगर स्वतंत्र

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image