तुम्हारा साथ चाहिए

  

अनीता मिश्रा "सिद्धि"

हर रूप में हर पल 

हमारे साथ रहते हो 

जीवन के अनुभव 

 पिता बनकर ही कहते हो

मुसीबत के दिनों में 

साथ बनकर भाई रहते हो


ज्ञान और अध्ययन जब चाहा 

तुम मिले गुरु के रूप में

जब आई मुसीबत तब-तब

आये याद मित्र बने

दी है छाया रहकर धूप में


 यौवन के दहलीज पर

साथी के रूप में तुमने

नये सपने संजोय प्रेम के

प्रेमी के रूप में पाया हमने


अनमोल धारा से सिचिंत

हुई मिलन के संयोग

से उतपन्न वात्सल्य मिला

पाया तुम्हें गोद में 

बेटे के रूप में 


हे ! नर हर रूप में हर पल

तुम्हारा साथ चाहिए ,।


अनीता मिश्रा "सिद्धि"

पटना कालिकेत नगर स्वतंत्र

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image