तुम्हारा साथ चाहिए

  

अनीता मिश्रा "सिद्धि"

हर रूप में हर पल 

हमारे साथ रहते हो 

जीवन के अनुभव 

 पिता बनकर ही कहते हो

मुसीबत के दिनों में 

साथ बनकर भाई रहते हो


ज्ञान और अध्ययन जब चाहा 

तुम मिले गुरु के रूप में

जब आई मुसीबत तब-तब

आये याद मित्र बने

दी है छाया रहकर धूप में


 यौवन के दहलीज पर

साथी के रूप में तुमने

नये सपने संजोय प्रेम के

प्रेमी के रूप में पाया हमने


अनमोल धारा से सिचिंत

हुई मिलन के संयोग

से उतपन्न वात्सल्य मिला

पाया तुम्हें गोद में 

बेटे के रूप में 


हे ! नर हर रूप में हर पल

तुम्हारा साथ चाहिए ,।


अनीता मिश्रा "सिद्धि"

पटना कालिकेत नगर स्वतंत्र

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
जीवन के हर क्षेत्र में खेल महत्वपूर्णः संजय गुलाटी, भेल में अन्तर इकाई बास्केटबाल टूर्नामेंन्ट
Image
साहित्यिक परिचय : बिजेंद्र कुमार तिवारी
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image