जब से शादियों में फेरे, कम होने लगे हैं

ऋषि तिवारी"ज्योति"

तब से 

जिंदगी में सबके

गम होने लगे हैं ।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।


सात फेरे थे,

उनके

वचन सात थे ।

एक दूजे की,

हाथों

में हांथ थे ।

पकड़ हाथों का

तब से

कम होने लगे हैं ।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।।


मांग सिंदूर से

जब रहते थे

पूरे भरे ।

सभी रहते थे

रिश्तों के

डोर में बंधे ।

सबके परिवार

तब से

बिखरने लगे हैं।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।


जब से फैसन

है आया

सब अंधे हुए ।

रिश्ते नातों

में भी

जब से धंधे हुए ।

मंडपों के

जमाने 

चले हीं गए ।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।।


पति-पत्नी को

रिश्तों में

ना विश्वास है ।

सास को भी

बहू से न

कुछ आस है ।

तब से

अपने भी पराए

लगने लगे हैं ।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।।


अब फूहड़ता

की हद 

रिश्ते नाते हुए ।

फर्क पड़ता नहीं

भयाहू

भसुर को छुए ।

तब से

असंतुलित

घर बार होने लगे हैं ।

जब से

शादियों में फेरे

कम होने लगे हैं ।।



✍️ ऋषि तिवारी"ज्योति"

चकरी, दरौली, सिवान (बिहार)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image