गज़ल

 

किरण मिश्रा 'स्वयंसिद्धा'

इश्क़ के नाम हो गयी हूँ ,

सुनहली शाम हो गयी हूँ !!



चाँद तेरी इक झलक पा,

गुल से गुलफाम हो गयी हूँ!!


तेरे तस्सवुर....में डूबकर 

छलकता ज़ाम हो गयी हूँ!!


जीने की हर अदा तुझसे,

खुशियां तमाम हो गयी हूँ !!


अहसासों ने ली अंगडाई ,

सुकूने एहतराम हो गयी हूँ !!


झुकाई इबादत में नज़रें,

कुबूले सलाम हो गयी हूँ !!


रंग जीस्त तेरे रंग #किरन"

खुशबुए किमाम हो गयी हूँ !!


किरण मिश्रा #स्वयंसिद्धा

नोयडा

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image