गज़ल

 

किरण मिश्रा 'स्वयंसिद्धा'

इश्क़ के नाम हो गयी हूँ ,

सुनहली शाम हो गयी हूँ !!



चाँद तेरी इक झलक पा,

गुल से गुलफाम हो गयी हूँ!!


तेरे तस्सवुर....में डूबकर 

छलकता ज़ाम हो गयी हूँ!!


जीने की हर अदा तुझसे,

खुशियां तमाम हो गयी हूँ !!


अहसासों ने ली अंगडाई ,

सुकूने एहतराम हो गयी हूँ !!


झुकाई इबादत में नज़रें,

कुबूले सलाम हो गयी हूँ !!


रंग जीस्त तेरे रंग #किरन"

खुशबुए किमाम हो गयी हूँ !!


किरण मिश्रा #स्वयंसिद्धा

नोयडा

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image