विज्ञान

गीता पाण्डेय अपराजिता

अपने तप,त्याग ,तपस्या से ,

यह मानव सृष्टि सजाता है ,



सकल विश्व को किया प्रकाशित,

फिर भी विज्ञान डराता है ।टेक।


पंचतत्व से निर्मित काया ,

इसमें ही ब्रह्माण्ड समाया ,

जड़,जग,जंगम भी चाह रहे,

जानें,कैसी होती माया ।

जितना ढूँढा क्षिति,जल,अम्बर ,

हर भेद सघन गहराता है ।

अपने तप,त्याग,तपस्या से 

यह मानव सृष्टि सजाता है ।1।


नित नूतन पथ का वरण किया,

निज धर्म सहज संचरण किया ।

हृदय दुखे नहि कभी किसी का -

हो पर हित रत आचरण किया।

युग युग के काल खण्ड में बॅध

यह समय हमें भरमाता है।

अपने तप,त्याग,तपस्या से 

यह मानव सृष्टि सजाता है ।2।


धर्मो जनित विज्ञान सहायक ,

उठा तूलिका बन जा नायक।

शस्य श्यामला धरती प्यारी -

मनुज बना तू रहने लायक।

विध्वंसक गतिविधियों से ही,

तुझे तो विज्ञान डराता है ।

अपने तप ,त्याग,तपस्या से ,

यह मानव सृष्टि सजाता है ।3।


गीता पाण्डेय अपराजिता

रायबरेली (उ0प्र0)

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image