भूमिका

नीलम राकेश 

       “बेटा जरा अपनी पत्नी को समझा दे । इस तरह से अब और नहीं चल सकता ।’’ बेटे को देखते ही गुस्से से माँ फट पड़ी ।

       “बात क्या है माँ  बहुत गुस्से में हो ।’’ अन्दर जाते हुये विजय के कदम रूक गये ।

       “देख विजय] ये बहू का रोज-रोज किटी पार्टी में जाना मुझे पसन्द नहीं ।’’

       “उसमें हर्ज क्या है माँ] मैं देर-सबेर घर आता हूँ । अपने काम के कारण मजबूर हूँ । उसे घुमा नहीं पाता हूँ । बेचारी बीना बोर हो जाती है । किटी पार्टी के बहाने थोड़ा घूम फिर आती है । यही तो उसके घूमने के दिन हैं । तुम्हें क्या परेशानी है A“

       “मै.........मैं........मैं.........भी तो बोर हो जाती हूँ ।...............दिन भर घर बैठे बस तुम्हारे बच्चों को सम्भालती रहती हूँ ।’’ माँ का गुस्सा और भड़क उठा ।

       “ओह.....] माँ , तुम कितनी भोली हो । यह तो समय का चक्र है । जब मैं छोटा था तो मेरी दादी घर में रहती थींA हम लोगों को सम्भालती थीं । घर का काम देखती थीं । तुम घूमती थी । वो तुम्हारा समय था । अब भूमिकाएं बदल गई हैं माँ] बहू की भूमिका में बीना है । यह उसका समय है । अब तुम दादी बन गई हो । तुम्हारी भूमिका दादी की है ।’’

            “विजय....................’’ आश्चर्य से माँ की ऑंखें फैल गई ।

         “सब ठीक हो जायेगा माँ । बस तुम अपनी भूमिका को पहचान लो ।’’ आश्वासन देता हुआ विजय कमरे से बाहर चला गया ।

 बेटे की यह भूमिका परिवर्तन की थ्योरी माँ को सकते में डाल गई थी।

   नीलम राकेश 

610/60, केशव नगर कालोनी

सीतापुर रोड, लखनऊ

 उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 8400477299

neelamrakeshchandra@gmail.com

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image