आंसू

 


मधु अरोड़ा

विरह हो या प्रेमालाप आंसू की अपनी अलग पहचान ,

मन का बोझ हल्का करते ,प्रेमाधार बन कर बहते।


यह अश्रु कभी बेवजह बह जाते,

 अत्याधिक खुशी या गम में स्वत: छलक आते हैं।


दिल में तड़प होती अपनों की बेवफाई से ,

आंसू मरहम बन गमों को भुला जाते।


जीने की वजह दे जाते, माना के कमजोर हैं हम,

अश्रु आते-जाते ,मन हल्का कर जाते।।


छलकते हैं आंसू आंखों की कोर से ,

दर्द ए दिल बयां कर जाते, धीरे से सब कुछ कह जाते।।

                                   दिल की कलम से

                                   

                                   

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image