सीढ़ियां

 

सुधीर श्रीवास्तव

अपने ख्वाब 

पूरे करने हों तो

शाम, दाम, द़ंड ,भेद के साथ

हर हथकंडे भी 

स्थिति के अनुसार

अपनाने में कोई हर्ज नहीं है,

ख्वाब साकार हो रहा हो तो

किसी भी हद तक गुजर जाना

या यूँ भी कह लें

किसी की लाश पर तम्बू लगाने में

तनिक भी गुरेज नहीं है।

आपकी तरह मैं बेवकूफ नहीं हूँ,

अपना जमीर जिंदा है

मात्र दिखाने के लिए

अपनी कामयाबी को पीछे ढकेल दूँ

मुझे मंजूर नहीं है।

मेरे ख्वाब जितने ऊँचे

मेरा जमीर उतना ही नीचे है,

आप भी ये जान लें 

अपने ख्वाबों को मैंने खून से सींचे हैं,

अपना तो जमीर जिंदा नहीं है यारों

तभी तो कामयाबी की 

सीढ़ियां चढ़कर यहां तक

आखिरकार पहुंचे हैं।

◆ सुधीर श्रीवास्तव

       गोण्डा, उ.प्र.

     8115285921

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image