" जल ही जीवन है"



     मीना माईकेल सिंह   

   जल ही जीवन है,

   यह सदा से सुनते आए है।

   मिलती बड़ी आसानी से,

   यही मन को भरमाये है।

   बूँद-बूँद में बसा है जीवन,

   शायद! यह हम समझ पाते।

   तो आज इसे यूँ बर्बाद न करते।


आज सबकों हमें समझना है।

आने वाला कल तुम्हारा है।

स्वस्थ जीवन यदि चाहिये तुम्हें,

तो जल का बूँद-बूँद बचना है।


   नष्ट किया यदि जल को आज,

  नहीं मिटेगी कल तुम्हारी प्यास।

  घूँट-घूँट के लिये जब तड़पोगे,

 अपने किये पर तब पछताओगे।

     

          तब पछताने से क्या होगा

          जब चिड़िया चुन गई खेत

        संभलो आज नहीं तो कल,

      समय करा देगा तुमको चेत।


  स्वरचित-----

मीना माईकेल सिंह

कोलकाता

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image