नटखट बचपन

 

सुषमा दिक्षित शुक्ला

अक्सर मुझको नटखट बचपन,

 याद बहुत आता है ।

माता का अनुपम दुलार ,

जो रोते हुए हंसाता है ।


कितना गहरा प्यार पिता का,

 जिसकी कोई माप नहीं थी ।


हम सब पर न्योछावर थे वह,

 अपनी तो परवाह नहीं थी ।


सखी सहेली वह बचपन की,

 जिनके साथ खेलते थे ।


भाई बहनों का संग खाना,

 साथ-साथ जब सोते थे ।


वह सावन के झूले सुंदर ,

वह बचपन की प्यारी होली।


 लुक्का छिप्पी, गुड्डा गुड़िया, 

जो थी सखियों संग खेली ।


बाग बगीचे पंछी नदिया ,

याद अभी भी आते हैं।


 वो टेढ़े मेंढे गांव के रस्ते,

 मन में घर पहुंच आते हैं ।


वह अतीत की सारी यादें ,

हैं मस्तिष्क पटल पर रहती ।


जब मन करता उन यादों में,

 जाकर हूं उड़ती फिरती ।


नए जन्म में फिर से वह सब ,

क्या मुझको मिल पाएगा ?


भोला भाला नटखट बचपन ,

लौट कभी क्या आएगा ?


अक्सर मुझको नटखट बचपन,

 याद बहुत आता है।


 माता का वह अनुपम दुलार ,

जो रोते हुए हंसाता है ।

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image