बड़ा होना समंदर की, बेबसी सह लाचारी है

ऋषि तिवारी"ज्योति"

बड़ा जो खूब हो जाता,

समाज से दूर हो जाता,

कभी वो चाहकर भी फिर,

किसी से मिल नहीं पाता ।

बड़ा होकर न मिलती है,

खुशीं हो सामने फिर भी, ।

उसे तो हद में है रहना,

जमाने का नियम कहता ।


गरज लो खूब चाहे तुम,

बड़ा हो सोचकर के तुम,

नहीं तुम लौट पाओगे,

बड़ा हो हद में ही रहना ।


नदी छोटी है सागर से,

परंतु कई नगर जाती,

नीर भी कम हीं है उसकी,

स्वाद मीठा है वो पाती ।


आस नदियों से है रखता,

बड़ा अथाह सागर भी,

परंतु उसके जल को भी,

खरा नमकीन करता है ।


किनारों के हीं भीतर रह,

कर बहना जिम्मेदारी है।

बड़ा होना समंदर की,

बेबसी सह लाचारी है ।


✍️ ऋषि तिवारी"ज्योति"

चकरी, दरौली, सिवान (बिहार)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
क्योंकि मैं बेटी थी
Image