सिद्धार्थ और बुद्ध

 

मीनू 'सुधा

शाक्य वंश का राज दुलारा

शुद्धोधन- गौतमी का प्यारा।

राज- वैभव को समझ के माया

पत्नी, पुत्र, राज ठुकराया।


देख बीमार, अपाहिज, वृद्ध को,

रोक न पाया उसने स्वयं को

विचलित हुआ देख दुखों को,

निकल पड़ा खोजने सत्य को।


और फिर.....


जब मानव अज्ञानता के ,

अंधकार में घिरने लगा,

ज्ञान का संदेश लेकर

दीप एक जलने लगा।


था सत्य का ईंधन पड़ा

और शांति की बाती सजी,

'सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय'

की घंटियांँ बजने लगी।


"परिवर्तन ही नियम है"

चलो इसे पुनः अपनाएंँ

यदि संकल्प सुदृढ़ और विचार

शुद्ध हो जाए तो,

भारत का हर बच्चा

बुद्ध बन जाए।


बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ 🙏


                              मीनू 'सुधा'

                  ऐतिहासिक तथ्यों के

  ‌                आधार पर

                 

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image