राणा प्रताप

प्रेम बजाज

रण में चौकड़ीयां भरता जाता  

 हवा से बातें करता जाता ।

कभी पड़ा ना कोड़ा चेतक पर वो हवा

 का झोंका या आसमान का घोड़ा था ।

घोड़ों पर घोड़े टूटते थे 

तलवारों से तलवारें लड़ती थी ।

चिंघाड़ से हाथियों की दुश्मन 

की सेना डरती - कांपती थी ।

रणभुमि में अजब भय था 

हार- जीत का कुछ ना तय था ।

एक पल इधर विजय, एक पल 

उधर विजय, किसी का सिर कहीं

था , किसी का धड़ कहीं था ।

राणा प्रताप , रण का ना प्यासा था 

करता था रखवाली सबकी 

मान- रक्त का प्यासा था ।

करता था राणा क्रीड़ा हथियारों

 से धार देखने को कभी कट

 जाती उंगली तलवारों से ।

भामाशाह ने पूंजी अपनी 

राणा को समर्पित किया रह कर 

जंगलों में छानी ख़ाक जंगलों की 

घास -फूस पे निर्वाह किया माटी की 

खातिर जीवन पर्यंत संघर्ष किया ।

जिस की रक्षा के लिए दी कुर्बानी पर कुर्बानी

शुरवीरों की वह चन्दन सी माटी है राजस्थानी ।

पिता उदय सिंह माता जयवंत कंवर 

का था ये सपूत ऐसा जिस की मृत्यु 

पर बहाए अश्क राजा अकबर जैसा ‌

5 कन्या 17 पूत , एक पूत ने दग़ा किया 

राणा की मृत्यु के बाद मेवाड़ सौंप 

अकबर को दिया ।


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image