हमसफर

 वैवाहिक बर्षगाँठ पर हमसफर को समर्पित यह रचना




 डॉ.सारिका ठाकुर "जागृति"

सुख-दुःख में मेरा साथ निभाया ।

मैं जब भी निराश हुई मेरा हौसला बढ़ाया ।

वो मेरा हमसफ़र ही है जिसने सदा,

मैं डगमगाई तो संभलना सिखाया ।


काँटो भरी राह पर पुष्प बिछाये ,

धूप में मेरी छाँव बनकर साथ निभाये


बिन कहे ही समझ जाता है वो हर बात,

निराशा में भी खोज लेता है उम्मीद की आस,

वो मेरा हमसफ़र ही है जिसने सदा,

मुझे कठिनाइयों से बखूबी निकलना सिखाया।


कैसे करूँ शुक्रिया अदा मैं उनका,

जिनसे उम्मीद की किरण जलती है सदा,

बस इतना ही कह पाऊँगी उनसे मैं आज,

जीवन में रहना ऐ हमसफ़र सदा मेरे साथ।


 डॉ.सारिका ठाकुर "जागृति"

 सर्वाधिकार सुरक्षित 

ग्वालियर (मध्य प्रदेश)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image