कवि महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी की रचनाएं




"कुंडलिया"


तुलसी पत्ता डालकर, पी लो साथी चाय।

अजवाइन अदरक तनिक, खूब उबालो भाय।

खूब उबालो भाय, पिलाओ सारे जग को।

साफ करो नित हाथ, रगड़ कर धोना मग को।

कह गौतम कविराज, वायरस इनसे झुलसी।

कुछ भी बचा न शेष, लिख गए सब कुछ तुलसी।।


"गौ सेवा, सर्व गुणकारी"

गैया मेरी नंदिनी, बरसाती है दूध।

बछिया गौरी नाम की, बिन लागत की सूद।

बिन लागत की सूद, कूद कर खेला करती।

दरवाजे की शान, सभी के दिल में रहती।

गौतम गुण की खान, मान से रख गौ मैया।

घर होता खुशहाल, जहाँ रंभाए गैया।।


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image