कवि महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी की रचनाएं




"कुंडलिया"


तुलसी पत्ता डालकर, पी लो साथी चाय।

अजवाइन अदरक तनिक, खूब उबालो भाय।

खूब उबालो भाय, पिलाओ सारे जग को।

साफ करो नित हाथ, रगड़ कर धोना मग को।

कह गौतम कविराज, वायरस इनसे झुलसी।

कुछ भी बचा न शेष, लिख गए सब कुछ तुलसी।।


"गौ सेवा, सर्व गुणकारी"

गैया मेरी नंदिनी, बरसाती है दूध।

बछिया गौरी नाम की, बिन लागत की सूद।

बिन लागत की सूद, कूद कर खेला करती।

दरवाजे की शान, सभी के दिल में रहती।

गौतम गुण की खान, मान से रख गौ मैया।

घर होता खुशहाल, जहाँ रंभाए गैया।।


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image