मेरा हृदय उद्गार

!! डूबता चला गया !!

गिरिराज पांडे 

डूबता नहीं है कोई भाव से मरा हुआ 

जो डूब गया भाव में वो डूबता चला गया

 डूबना ही जिंदगी है खुशी में आज डूब लो

 बस यही आज मैं सोचता चला गया 

दुख से न भीगी कभी जीवन में आंखें मेरी 

डूब भाव आंसू को बहाता मै चला गया 

परोपकार में ही जीवन यहां बीते मेरा 

मन में विचार ऐसा करता चला गया

 कभी ना हुआ निराश जीवन में दुख देख 

सुख दुख जीवन में आता और चला गया


 गिरिराज पांडे 

वीर मऊ 

प्रतापगढ़

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image