सदाचार और उसका उपयोग

श्रीकांत यादव

नियंत्रित वाणी और सधी भाषा, 

भद्र जनों से सदा अपेक्षित हैं |

कर्कशता उत्तेजना कृत्रिम बनावट, 

दुष्टों की भाषा में प्रचलित हैं ||


दुस्साहस की अपनी कहानी, 

अज्ञानी विद्वानों से कहते हैं,

उनकी विजय गाथा नहीं यह,

खुद बुराई की स्वयं करते हैं ||


जातीय अहंकार और घृणा की, 

पूरे दुनियां मे बोलती बंद है |

समता मूलक सभ्य समाज में, 

कानूनन दण्ड और प्रतिबंध है ||


मिष्ठ भाषा और तर्कसंगत विचार, 

व्यक्तित्व के चाँद सितारे हैं |

कटुवाणी उत्तेजनात्मक स्वर के, 

विचारे फिरते मारे मारे हैं||


प्रखर ज्ञान हमें स्थान दिलाते, 

हमारा व्यक्तित्व उचित सम्मान |

खोखले ज्ञान से भांड न भरता, 

स्व विवेक विना ना निदान ||


तेज चमकता माथे पर उनके, 

जो प्रज्ञा रूपी सागर भर ली है |

वाणी उनकी वीणा सी बजती, 

इंद्रियाँ जो बस में कर ली हैं ||


ज्ञान तपस्या अभ्यास उपासना, 

विज्ञान है माला जप तप की |

गणित भाषा सामाजिक आराधना, 

ये विवेक बुध्दि हैं आतप की ||


तर्कशक्ति बौध्दिक विकास का, 

अवलंब बडा आवश्यक है |

विना ज्ञान तत्कालीन समाज के, 

यह तो भूल चूक अभावक है ||


प्रसन्नचित्त मन क्रोध पर काबू, 

तनाव नियंत्रण जिसने जाना |

समय उपयोग इसका नियंत्रण, 

कर सफल हुआ जग ने माना ||


क्षमा दया करुणा ममता,

बौध्दिक बल से जिसने साधा।

यदुवंशी जग में उसकी तूती बोलती,

रोक न सकती कोई बाधा।।


श्रीकांत यादव

(प्रवक्ता हिंदी)

आर सी-326, दीपक विहार

खोड़ा, गाजियाबाद

उ०प्र०!

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image