कवि सुशील कुमार भोला की रचनाएं



अलविदा जिंदगी को कह दूँ कैसे


तेरे बगैर क्या हो गया हूँ, 

रूह से बिछुड़ा जिस्म हो जैसे,,

हर सांस जाल बिछा देती है, 

जकडा हुआ पंख फडफडाऊं कैसे,,

हर सांस गर्म ले रहा है सूर्य, 

मुझ से ज्यादा जला हो सकता है कैसे,,

मुखबिर बन बैठी है रूह जिस्म में, 

अलविदा जिंदगी को कह दूँ कैसे,, ,,

घुटे बन्धन तोडने ही पडेंगे 

दूरी जिस्म की

दूरी मन की

जब हो तो पूरी हों

वर्ना 

मिलन की आस बनी रहती है 

दूरियाँ ऐसी हों

आंख देखे तो पहचाने नहीं 

कान सुनें तो चौंके नहीं 

स्मृतियों के आईने 

टूट जाएँ तो बेहतर 

ख्यालों से ओझल 

सपनों से दूर 

घुटे बन्धन तोडने ही पडेंगे 

घुटी सांसें 

जिस्म रूह को सुकून नहीं देती 

या बन्धन तोड़ दो

या बन्धन में बन्ध जाओ...


          सुशील कुमार भोला 

                             जम्मू

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image