प्रकृति

 



प्रकृति का 

सौन्दर्य

नदी,वृक्ष,पर्वत।

खत्म न हो कभी यह

इनका अस्तित्व

कुछ ऐसा करें हम

इनके लिए प्रयत्न

वर्षा जल का संरक्षण,

वृक्षों का करें रक्षण

कुछ ऐसा ही हो 

इनके लिए यत्न।

कल-कल करती

बह उठे फिर-

गंगा की निर्मल धार

धरा पर हो फिर-

शीतलता अपार

बहती हवाओं में

हो मधुरम आभाष

उगे धरा पर जब

हरी-हरी घास

बाढ़ का न हो 

कभी प्रकोप

खुशियों से भरा रहे

वसुधा की कोख

लहलहाती फसलें

धरती का करें शृंगार

हलधर के घर फिर-

भरा हो धन-धान्य

प्रकृति के किसी भी रूप का

करो न अब दोहन

वृक्ष लगाओ! नदी बचाओ!

सर्वत्र यही नारा फैलाओ!

आओ सभी मिलकर

दें योगदान!

प्रकृति हित करें

कुछ समय दान

कुछ श्रम दान!

................।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image