इक ग़ज़ल

 


अंजु कुमारी दास गीतांजलि

जिसे  देखिये  बस  बदन  ताकता है।

हुनर  को  जरा  भी  नहीं  आँकता है।


शराफत  का  चोला पहनकर वो घूमे

खुली खिड़कियाँ देख जो झाँकता है।


घुमाकर  फिराकर  करे  बात हर दम

समझ से परे  हूं  वो  क्या  चाहता है।


कदम   मैं   बढाऊँ  तो  कैसे  बढाऊँ

बड़ी  गंदी  नज़रों  से  वो  ताड़ता है।


लिखी  है  जलालत यूँ अंजू के हाथों

मेरे   ओहदे   वो    नहीं   जानता  है।


अंजु कुमारी दास गीतांजलि

शिक्षिका

पूर्णियां बिहार।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image