जन्मदिन की हार्दिक बधाई पतिदेव:-

 




"जिंदगी की साँझ बेला

गीत प्रणय के गाएँगे

आ गया पतझड़ भले

उम्मीद-दीप जलाएँगे

आएँगी खुशियाँ दिवस

आस मन पनपाएँगे

दो जहाँ की ताकतों से

लड़कर तो दिखलायेंगे

हड्डियाँ बूढ़ी भले हो

जीवंतता अपनाएंगे

गीत मिलन के गाएँगे

 प्यार की पेंग बढ़ाएंगे

दो जहाँ की खुशियाँ मिले

अवकाश पर न जाएँगे

मिलकर अपनों के सँग

जनमदिवस मनाएंगे

हो सौ जनम ऐसे हीं तो

हँस कर हम बिताएँगे

भूले से भी कहें बूढे हुए

वह दिन कभी न लाएँगे

🎂🎂🎂🎂🎂💐💐💐💐

★★★★★

 डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image