मीठी वाणी

 


ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

मीठी वाणी मीत मिलते,

तीखी वाणी शत्रु पनपते।


मीठी मीठी वाणी बोलिए

जगत में मधुरता घोलिए।


मीठी वाणी देव की जानी

तीखी वाणी दैत्य निशानी।



मीठी वाणी दिल मिलाए

तीखी वाणी कहर बरपाए।


मीठी वाणी औषधि बनती

तीखी वाणी जहर उगलती।


मीठी वाणी सबको भाती,

जगत में सम्मान दिलाती।


मीठी वाणी उपजे सुविचार,

तीखी वाणी कुत्सित विचार।


प्यारे तुम भी मीठा ही बोलो,

पहले तोलो फिर मुख खोलो।


ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

तिलसहरी कानपुर नगर

9935117487

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image