ग़ज़ल

सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

बहुत हो चुका अब हालात बदलने की बात कर। 

स्वप्न आशा के हर नयन में पलने की बात कर। 

गले, फेफड़े से बीमारी आँखों तक आ गई,

और क्या होगा प्रभु अब हल निकलने की बात कर।


कहाँ पर गया तेरा तरस मेरे मालिके जहां, 

स्वस्थ कर हर इन्सां को अमन फलने की बात कर। 


है धुकधुकी में जी रहा यहाँ हर एक आदमी, 

अब तो ऐ रहम दिल सूरत संभलने की बात कर।


कालाबाजारी की वशियत भारी है दया पर,

कर के नेकी ऐ रहमान भूलने की बात कर।


मोहताज है इन्सां आज तेरी रहम के लिए, 

ऐ रहीम तू बाग में फूल खिलने की बात कर।

 

तड़पती यहाँ रूहें हैं, यतीम हो गये बच्चे, 

परवरदिगार अब तो सुकून मिलने की बात कर। 


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image