दिव्य रत्न

 



 दिव्य रत्न को पाना है तो ,मंथन करना होगा,

चिंतन रूपी रस्सी से फिर ,सागर मथना होगा ।


आज देश में भरा हलाहल, जीवन है निष्प्राण,

करने आओ मानवता का, हे शिव तुम कल्याण,

अथक प्रयास किए हैं हमने ,पर हम हैं लाचार,

आज तुम्हें ही धरा पर आकर ,संकट हरना होगा ।


विष को पीकर तुमको ही, संताप मिटाना होगा,

प्रजा बुलाती है तुमको, कैलाश से आना होगा,

गरल की लपटें ऐसी फैली, रूप धरे विकराल,

नीलकंठ इस विष को तुमको, कंठ पर धरना होगा ।


स्मिता पांडेय

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image