दिव्य रत्न

 



 दिव्य रत्न को पाना है तो ,मंथन करना होगा,

चिंतन रूपी रस्सी से फिर ,सागर मथना होगा ।


आज देश में भरा हलाहल, जीवन है निष्प्राण,

करने आओ मानवता का, हे शिव तुम कल्याण,

अथक प्रयास किए हैं हमने ,पर हम हैं लाचार,

आज तुम्हें ही धरा पर आकर ,संकट हरना होगा ।


विष को पीकर तुमको ही, संताप मिटाना होगा,

प्रजा बुलाती है तुमको, कैलाश से आना होगा,

गरल की लपटें ऐसी फैली, रूप धरे विकराल,

नीलकंठ इस विष को तुमको, कंठ पर धरना होगा ।


स्मिता पांडेय

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image