सांसों में उमंग

 

सन्तोषी दीक्षित कानपुर

चलो सांसों में नयी उमंग भरें

मतवाला हर इक अंग करें,

जीवन है तो, मृत्यु भी आयेगी

पहले से ही सोच के क्यों हम मरे,


संसार को भर लें दामन में

कलियों को खिलाये आंगन में

उनसे जो निकलें फूल यहां ,उनको चढाये ,प्रभु चरणों

में,


माना कि घना ,अधेरा है,पर

उसके बाद सवेरा है,माना कि

पंछी नीड़ में नहीं ,पर उनका

वहीं बसेरा है,


सूरज होकर के मतवाला 

अपनी आभा को बिखराता

है , चंदा होकर के दीवाना

अपनी शीतलता दिखलाता है


ये काया है नश्वर प्यारे,ये जीवन

तो क्षणभंगुर है, बाहर ढूंढोगे

मिलेगा न कुछ,सब कुछ इसके

अन्दर है,




संयम रखकर ,अपने ऊपर 

हम हर विपदा को पार करें

आ जाये कोई भी तूफा

मर जाये लेकिन हम न डरे,

चलो____


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image