सांसों में उमंग

 

सन्तोषी दीक्षित कानपुर

चलो सांसों में नयी उमंग भरें

मतवाला हर इक अंग करें,

जीवन है तो, मृत्यु भी आयेगी

पहले से ही सोच के क्यों हम मरे,


संसार को भर लें दामन में

कलियों को खिलाये आंगन में

उनसे जो निकलें फूल यहां ,उनको चढाये ,प्रभु चरणों

में,


माना कि घना ,अधेरा है,पर

उसके बाद सवेरा है,माना कि

पंछी नीड़ में नहीं ,पर उनका

वहीं बसेरा है,


सूरज होकर के मतवाला 

अपनी आभा को बिखराता

है , चंदा होकर के दीवाना

अपनी शीतलता दिखलाता है


ये काया है नश्वर प्यारे,ये जीवन

तो क्षणभंगुर है, बाहर ढूंढोगे

मिलेगा न कुछ,सब कुछ इसके

अन्दर है,




संयम रखकर ,अपने ऊपर 

हम हर विपदा को पार करें

आ जाये कोई भी तूफा

मर जाये लेकिन हम न डरे,

चलो____


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image