बीत गई सो बीत गई

 

सुधीर श्रीवास्तव

न शोक करो

न खुशफहमी पालो,

जो बीत गई,वो बात गई

अब वो इतिहास हो गई।

वो कहावत तो सुनी है न

रात गई ,बात गई

सो अब वर्तमान में लौटिए,

अब आज कुछ कीजिए

अंतर्मन में झांकिए

भविष्य का विचार कीजिए,

बीते कल के 

अच्छे बुरे के चक्कर में

आने वाला कल 

न खराब कीजिए।

बीता कल अच्छा नहीं था

तो भी कोई बात नहीं,

आने वाले कल को तो

सुधार लीजिये,

बीता कल अच्छा था तो भी

आने वाले कल को

और भी अच्छे साँचे में 

ढालने का इंतजाम 

आज से नहीं अभी से ही

शुरु कीजिए।

● सुधीर श्रीवास्तव

     गोण्डा, उ.प्र.

   8115285921

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image