ग़ज़ल

  

डाॕ शाहिदा


अपने आसपास नज़र डाल कर देखो,

कुछ दीन दुखियों को पाल कर देखो |



खिल उठेंगे मुरझाये हुए फूल और पत्ते

तुम इस ज़मीन पर पानी पाट कर देखो |


भड़क उठेंगे शोले ये कोई खेल नहीं,

आग में तुम थोड़ा सा घी डाल कर दे |


ये ज़िन्दगी बहुत हसीन बन जाएगी,

इस में प्यार का रंग डालकर देखो |


ऊपर उड़ने वाला ज़मीन पर आएगा,

एक सिक्का हवा में उछाल कर देखो |


बारिश में आकाश से गिरता पानी ,

 फिर ऊपर जाएगा उबालकर देखो |


क़द ज़माने में ऊँचा हो जाएगा खुद ही,

दुश्मन को जड़ से उखाड़ कर देखो |


दौलत का नशा हरगिज़ न पालना,"शाहिद"

दौलत वालों के घर में झांक कर देखो |


Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image