अक्षय

अक्षय तृतीया विशेष



कीर्ति चौरसिया

कंठ से गीत तक,गीत से आत्मा में

जो लेकर जाते हैं वह होते हैं *अक्षय सुर* !!


अनुभव से वाणी तक,वाणी से आंखों में,

जो चमकता है,वह होती है *अक्षय बुद्धि*!!


एकांत से शांति तक,शांति से आंनद में

जो प्राप्त होता है वह है *अक्षय आत्मविश्वास* !!


सफलता से अमीरी तक,अमीरी से नम्रता में,

जो प्राप्त होती है वह है *अक्षय मानवता* !!


स्पर्श से आलिंगन तक,आलिंगन से आंसू में

जो निकलती है वह होती है *अक्षय करुणा* !!


ह्रदय से चेहरे तक, चेहरे से मुस्कान में

जो झलकता है वह होता है *अक्षय प्रेम* !!



इक्छा से प्रयास तक,प्रयास से संघर्ष में

जो प्राप्त होती है वह है *अक्षय सफलता* !!


प्रेम से परमात्मा तक ,परमात्मा से साधना में

जो प्राप्त होता है वह है *अक्षय मोक्ष* !!


कीर्ति चौरसिया

 जबलपुर ( मध्य प्रदेश)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image